Thursday, 28 June 2018

विकास या राम

विषय :- विकास या राम मंदिर

सभी को मेरा विनम्र प्रणाम मेरे इस लेख को यथार्थ न ले मै एक ब्रह्ममन परिवार से हू और इस पर मुझे गर्व है मै अपने हिन्दू धर्म के सभी देवी देवताओं को मानता हूं वो मेरे ह्रदय मे वास करते हैं
किन्तु जब बात आति है हमारे परिवार हमारे समाज के पिछड़ जाने कि आज सामान्य वर्ग किस हालात मे है हम सब को पता है जब हम आने वाले समय मै हिन्दू रहेंगे हि नही तो हम राम और राम जी और राम मंदिर का क्या करेंगे आप सभी के जहन सवाल आया होगा कि हम क्यू अपना धर्म बदलेंगे तो मै आपको बताऊ कि जिनहोने भि ईतिहास मे धर्म बदला मजबूरी मे ही बदला शौक से नहीं हां ये बात अलग है तब हिंसा का दौर था और अब चालाकी का अब हमको विभिन्न मुददो मे उलझा कर हमे पीछे की ओर ढकेल रहे हैं गरीबी की ओर और बेरोजगारी की ओर और जब हम गरीब और बेरोजगार होगें हमारा परिवार गरीबी मे होगा जीवन यापन मुसकिल होगा तभी कोई आयेगा और कहेगा आप अपना धर्म बदल लीजिए आप के सारे कष्ट समाप्त हो जाएगे हमे उस समय राम जी याद नहीं आयेंगे क्यू की सामने कष्ट झेलता हुआ हमारा परिवार होगा और ये हमारी प्रवृति रही है कि हम अपने परिवारो को कष्ट मे नही देख सकते और आखिर मे हमे हालात से समझौता करना पड़ेगा
ईन सभी बातो का सिर्फ और सिर्फ एक ही मक़सद है कि जो राजनीति हमारे साथ खेली जा रही है उसी भाषा में हमे उत्तर भी देना होगा

कुछ लिखने का प्रयास किया है पसंद आये तो अपना प्रेम अवश्य दिखाइयेगा
आपका
मनोज उपाध्याय

Friday, 8 December 2017

किसी को फ़िकर नही मजदूर की
कोई जिक्र नही मजदूर की

वो मजबूर है इसलिए कोई जिक्र नही करता
वो किसी का नुकसान नही करता ईसलिए कोई फिक्र नही करता

कोई तो जगा दे ऊनको जो सबकी फिक्र का ठेका लिए बैठे हैं
हम मजदूर भी इसी जहाँ में रहते हैं


आपका
मनोज उपाध्याय 

Wednesday, 22 November 2017

राजनीति और आम आदमी

आप सभी को मेरा नमस्कार मै मनोज उपाध्याय आज कुछ एसा लिखने जा रहा हूँ जिस पर हर आदमी की आखे बन्द हैं
फिल्मी सितारे या अन्य प्रचलित हस्ती सिर्फ बोलते हैं और अपनी फीस करोडो मे लेते हैं ईसी से पता चलता है की वे समाज के प्रति कितने संवेदन सील हैं   राजनीतिक प्रतयासी करोडो खर्चा करके चुनाव लडते हैं तो हम सब खुद ही सोच ले की वो किसका भला करेगे आम आदमी तो कभी कही दिखाई नही देता कयू की वो दिखाई दिया तो इनको कौन देखेगा मै अपनी और अपने देश की हालत से परेशान हू कयू कि सरकार कहती है बैंक मै खाता खोलो अब इनको कौन बताए जहाँ पर एक समय का खाना भी सोच समझ कर आम बनाता हो वहा बैंक शब्द मजाक सा लगता है

ये ब्लोग पड़े और राय दे और कुछ विसय भि लिखे जिस पर आप पडना चाहते हैं
शेयर भि करे

आपका
उपाध्याय


Monday, 2 October 2017

एक सो सिरी हो रहा है कलरस पर  जिसका नाम है बिग बॉस

यह एक बेहूदा सो है ये हम सब जानते हैं तो कृपया करके इसको देख कर इसकी टी आर पी न बडाये आप सब इसकी टी आर पी गिराये गे तो समाज मे एसे बेहूदा सो नही आएगे 

 

Sunday, 1 October 2017

आपका मित्र


Helo freinds

Pls share this article 

मेरा ये लेख सिर्फ भारत कि उस राजनीति पर है जिसके हम  सिकार है आज का मुद्दा मे एजुकेशन को लेता हूं 
 
हम जरा सि बात को नहीं समझ प रहे कि ये जो पूंजी पती लोग हैं ऊनहोने हमारे बच्चो का शिक्षा का अधिकार भी अपनी मुट्ठी मे कर रखा है 
सरकारे हमारा ही पैसा एसी शिक्षा प्रणाली बनाने मे खर्च कर रही है जिसका कोई सिर पैर नही कया उनमे पडकर बच्चो का भविष्य कैसा है हम सभी जानते हैं जितना पैसा एक सरकारी अध्यापक लेता है उतनी प्राईवेट स्कूलो के छ: अधयापको का वेतन होगा फिर भि शिक्षा बेहाल है 

मै कुछ चीजो को उठाना चाहता हूं अगर आप लोगो ने साथ दिया तो कुछ बदलाव हम भी लायेगे 

शेयर करे और आपकी अमूल्य सलाह भी दे 

Wednesday, 6 September 2017

आप सब को अनधविसवास से दूर करना है
विश्वास की ओर बडाना है

जय माता रानी की

Sunday, 13 August 2017

Monday, 17 July 2017

Jai mata Rani ki: Baba ramdev logo ko bhramit to Nahi kar rahe hain ...

Jai mata Rani ki: Baba ramdev logo ko bhramit to Nahi kar rahe hain ...: Baba ramdev logo ko bhramit to Nahi kar rahe hain Kya koi company Itni jaldi tarakki kar sakti hai  Agar aap or jaanna chahte hain to co...
Baba ramdev logo ko bhramit to Nahi kar rahe hain Kya koi company Itni jaldi tarakki kar sakti hai 

Agar aap or jaanna chahte hain to comment me yes likhe